Thursday, December 1, 2022
HomeIPOमुथूट माइक्रोफिन (Muthoot Microfin) इसी महीने (Month) पेश कर सकती है...

मुथूट माइक्रोफिन (Muthoot Microfin) इसी महीने (Month) पेश कर सकती है IPO

मुथूट माइक्रोफिन (Muthoot Microfin) इसी महीने (Month) आईपीओ (IPO)  पेश कर सकती है। यह मुथूट पप्पाचन समूह (MPG) की माइक्रो फाइनेंस (micro finance) फर्म है। कंपनी (Company) के चेयरमैन (Chairman)  थॉमस जॉन मुथूट ने एक (One)  इंटरव्यू (interview)  में यह जानकारी (Knowledge) दी।

इस इश्यू (Issue)  में कपंनी (Company) 500 करोड़ रुपये के आईपीओ (IPO)  के साथ 500 करोड़ रुपये (Cr. Rupya) का ऑफर फॉर (offer for) सेल (OFS) भी पेश करने वाली है। इसके चलते कंपनी (Company)  में प्रमोटर्स (Promoters) की हिस्सेदारी (Share) 86 फीसदी से घटकर (reduced) 70 फीसदी हो जाएगी।

कंपनी (Company) को पिछले साल अक्टूबर (October) में भारतीय (Indian)  प्रतिभूति और विनियामक बोर्ड (सेबी) से आईपीओ (IPO) पेश करने की इजाजत (approval)  मिल गई थी। कंपनी (Company) अगले कुछ दिनों (Days) में अपटेड रेड हेरिंग (Red Hairing)  प्रॉस्पेक्टस सेबी (SEBI)  को सौंपेगी। इससे मार्च (March) के मध्य (mid) तक शेयर बाजार (Share market) में कंपनी (Company) के सूचीबद्ध (listed)  होने का रास्ता (Road) साफ हो जाएगा।

मुथूट माइक्रोफिन (Muthoot Microfin)  पूर्णतया मुथूट फिनकॉर्प की स्वामित्व वाली कंपनी (Company)  है। एमएमएल (MML) ने अपने माइक्रोफाइनेंस (microfinance) कारोबार को रफ्तार (Race) देने के लिए 250 करोड़ रुपये जुटाया (Collect) हैं। कंपनी (Company)  देश भर में अपनी जड़े मजबूत (String) करना चाहती है। इसमें Rs.194 करोड़ (Cr.) रुपये मौजूदा प्रमोटर्स (Promoters)  ने राइट्स इश्यू (Issue) के जरिए जुटाए हैं।

कंपनी (Company) को $1 मिलियन का निवेश अमरेका (America)  से मौजूदा पीई (Collect) निवेशकों ने सीरीज (Series) बी फंडिंग के जरिए दिया। वित्त वर्ष 18 के अंत तक कंपनी (Company) की कुल कैपिटल (Capital) 614 करोड़ रुपये तक पहुंच गई। क्रिसिल (Crisil) ने अप्रैल (April) में एमएमएल को एम1सी1 ग्रेड (Grade) दिया था, जो माइक्रोफाइनेंस (Microfinance)  का सर्वोच्च ग्रेड (Grade)  है।

पिछले (Last) ही महीने सेबी (Month SEBI) ने बेंगलुरु (banglore) की माइक्रोफाइनेंस कंपनी (Company) क्रेडिट एक्सेस (access)  ग्रामीण को Rs.1,500 करोड़ रुपये के आईपीओ (IPO) के लिए हरी झंडी दिखाई थी। इसके अलावा स्पंदना माइक्रोफाइनेंस (Microfinance) ने भी आईपीओ (IPO) पेश करने के लिए सेबी के पास याचिका दायर की है।

माइक्रोफाइनेंस (microfinance) का कारोबार देश (world) में बढ़ रहा है। पिछले साल इंडसइंड बैंक (Indisant bank)  ने भारत फाइनेंशियल इंक्लूजन का अधिग्रहण किया था। इसके बाद कोटक महिंद्र बैंक (kotak mahindra bank)  ने बीएसएस माइक्रोफाइनेंस (Microfinance) को अधिग्रहित किया। नोटबंदी के बाद इक्रा ने कहा था कि भारत (India) में माइक्रो फाइनेंस (Micro finance) इंडस्ट्री 20-22 फीसदी की दर (Rate)  से बढ़ेगी।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments