श्री राम चालीसा – Shri Ram Chalisa

श्री राम चालीसा – Shri Ram Chalisa

श्री रघुवीर भक्त हितकारी। हमारे प्रभु के अनुरोध को सुनो।

जो कोई भी दिन-रात ध्यान करता है। तो भक्त नहीं रहा।

शिवाजी ध्यान करते हैं। ब्रह्मा ने इंद्र के आगे नहीं देखा।

मैसेंजर अपने हीरो हनुमना। जासूसी प्रभाव

 

फिर भुज दंड प्रचंड कृपाला। रावण ने सूरन प्रतिपाल का वध किया।

आप अनाथों के पिता हैं। गरीबों की हमेशा मदद की जाती है।

चलो ब्रह्मांडीय स्तर पर आते हैं। मैं सदा तेरा गुण गाऊँगा।

चार वेद भारत सखी हैं। धिक्कार है भक्तों पर।

गन गावत शरद मान माही। सुरपति से आगे मत देखो।

जो आपका नाम लेता है। धन्य है वह जिसके पास नहीं है।

राम का नाम अपरम्परा है। चारिहु वेदान जाहि पुकारा।

नाम गणपति तुम्हारा है। उनका प्रथम उपासक कौन है?

बाकी तुम्हारा नाम है। शीश पर शहद की धारा बहती है।

फूल वही रहते हैं। अपना पारा मत खाओ।

भरत तेरा नाम है। युद्ध में कभी नहीं हारना।

नाम शक्शुहन हृदय प्रकाश। हारने पर शत्रु का नाश करें।

लखन आपका आज्ञाकारी है। हमेशा बच्चों की रखवाली करना।

कोई भी युद्ध नहीं जीता। युद्ध क्यों छिड़ गया?

महालक्ष्मी धर अवतार। पाप का नियम।

सीता राम ने पुनीता गाया। भुवनेश्वरी ने अपना प्रभाव दिखाया।

घाट प्रकट हुआ और सो गया। जाको को देखकर चाँद लज्जित हुआ।

तो आपके पैर लगातार गिर रहे हैं। नवो निधि चरण में लोटत।

सिद्धि अठारह शुभ। तो अपने आप को बलिदान करते रहो।

और जिनके पास अनेक आधिपत्य हैं। तो आपने सीतापति को बनाया।

कोटिन संसार की इच्छा। बिना कीमत के बारह पल।

जो आपको कदम बढ़ा देगा। ताकि मोक्ष आ सके।

जय जय जय प्रभु ज्योति स्वरूप। नरगुणा ब्रह्म अखंड अनूपा।

सत्य सत्य जय सत्यव्रत स्वामी। सत्य सनातन अंतर्यामी।

सत्य भजन आपका गांव है। तो ये चारों निश्चित रूप से फल देंगे।

सच्ची शपथ गौरीपति कीन्ही। आपने भक्ति के सभी तरीके नहीं बताए हैं।

सुनहू राम, तुम हमारे हो। आप भारत कुल पूज्य का उपदेश देते हैं।

आप हमारे भगवान हैं। आप गुरु देव प्राण के प्रिय हैं।

कुछ भी हो, तुम राजा हो। जय जय जय प्रभु रखखो लाजा!

राम आत्मा पोषण खो देता है। जय जय दशरथ राज दुलारे।

ज्ञान का हृदय ज्ञान के दो रूप हैं। नमो नमो जय जगपति भूपा।

धन्य धन्य आप धन्य प्रताप। नाम तुमहर हरत संतपा।

सत्य शुद्ध देवन ने मुख गाया। बाजी दुंदुभी ने शंख बजाया।

सत्य सत्य तुम सत्य सनातन। आप हमारे तन, मन और धन हैं।

 

जो कोई भी इसे पढ़ता है। ज्ञान प्रकट होता है।

इस समय ट्रैफिक हल्का था। सत्य का पालन करो, मेरे सिर।

और मेरे दिमाग में क्या हुआ। मनचाहा फल प्राप्त करें।

तीन बार ध्यान लाते हैं। तुलसी की दाल को ज्यादा से ज्यादा फूल चढ़ाएं।

हरी पत्तेदार सब्जियों का सेवन करें। तो आदमी को स्थूल पूर्णता मिलेगी।

पिछली बार मैं रघुबरपुर गया था। जहां हरि भक्त का जन्म हुआ था।

श्री हरिदास दूसरे गाँव में हैं। तो बैकुंठ धाम पहुंचें।

। दोहा

आप जिन सात दिनों का नाम लेते हैं, उनका पाठ करें।

हरिदास हरि की कृपा से, भक्ति प्राप्त करें।

जो कोई राम चालीसा पढ़ता है, वह राम चरण चिट लाता है।

आप अपने दिल में जो कुछ भी करेंगे, आप परफेक्ट होंगे।

..इतिश्री प्रभु श्रीराम चालीसा समाप्त: ..

 

https://hindi.blogout.net/shri-radha-chalisa/

 

https://hindi.blogout.net/maa-vindheshwari-chalisa/

https://hindi.blogout.net/hanuman-chalisa/

 

 

 

 

 

8 Most Popular Pizzas Around the World | दुनिया भर में सबसे 8 लोकप्रिय पिज्जा for beginners make-up kit बिगनर्स के लिए  मेकअप  कीट If you know the right way to drink water then you will not fall ill | पानी पीने का सही तरीका जान लेंगे तो नहीं पड़ेगे बीमार Kadhi Pakora Recipe | कढ़ी पकोड़ा रेसिपी Dhaba Style Egg Curry Recipe | ढाबा स्टाइल अंडे की करी रेसिपी
DMCA.com Protection Status