Friday, December 2, 2022
HomeIPOआ रहा है Go Airlines का Rs.3600 करोड़ रुपए का IPO, सेबी...

आ रहा है Go Airlines का Rs.3600 करोड़ रुपए का IPO, सेबी से मिली मंजूरी (Approval)

कई ऐसे निवेशक होते हैं जो आरंभिक सार्वजनिक (individual)  निर्गम (अईपीओ) के जरिए मुनाफा (Interest) कमाने की सोचते हैं। बीते कुछ दिनों (Days) में ऐसे निवेशकों को झटका लगा है। दरअसल, कुछ आईपीओ (OlIPO) की लिस्टिंग निगेटिव (Listing negative)  में होने की वजह से निवेशकों को नुकसान हुआ है। हालांकि, अब निवेशकों को विमान सेवा (Air facilities)  देने वाली गो एयरलाइंस (Airlines)  के आईपीओ (IPO)  से उम्मीद जगी है।

Rs.3,600 करोड़ रुपए जुटाने की योजना: दरअसल,  गो एयरलाइंस (Go Airlines) को अईपीओ (IPO)  के लिए सेबी से मंजूरी मिल गयी है। कंपनी (Company) ने ‘गो फर्स्ट’ (Go First)  नाम से नया ब्रांड (Brand) नाम (Name)  दिया है। भारतीय (Indian)  प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) के पास जमा दस्तावेज (Paper’) के अनुसार एयरलाइन (Airlines)  की शेयरों (Shares)  की बिक्री के जरिये 3,600 करोड़ रुपए जुटाने की योजना है। कंपनी (Company) की आईपीओ (IPO)  से पूर्व नियोजन के आधार (base) पर Rs.1,500 करोड़ रुपए जुटाने की भी योजना है।

सेबी के मुताबिक कंपनी (Company) ने आईपीओ (IPO) के लिये मई (may) में शुरुआती दस्तावेज जमा किये थे। उसे अब सेबी से टिप्पणी मिल चुकी है। आईपीओ (IPO) पर सेबी की टिप्पणी का मतलब (Means)  है कि आईपीओ (IPO)  को मंजूरी। दस्तावेज यानी विवरण पुस्तिका (Records) के अनुसार आईपीओ (IPO)  से प्राप्त राशि (Profit) Rs.2,015.81 करोड़ रुपए का उपयोग एयरलाइन (Airlines) कर्ज के भुगतान में करेगी।

चौथी एयरलाइन (Fourth Airlines) की होगी लिस्टिंग: (Listings) गो एयर (Go Air) चौथी ऐसी एयरलाइन (Airlines) होगी जो शेयर बाजार (Share market)  में लिस्टेड (Listed) होगी। फिलहाल तीन विमान कंपनियां- (Airlines company)  इंडिगो, स्पाइसजेट (Spicejet) और जेट एयरवेज (Jet Airways)  घरेलू शेयर बाजार (Share market) में सूचीबद्ध (Listed) हैं। बता दें कि जेट एयरवेज (Jet airways) ने अप्रैल (April) 2019 में परिचालन बंद (Stop) कर दिया था। कंपनी (Company) ऋण शोधन प्रक्रिया में गयी है। राष्ट्रीय कंपनी (Company) विधि न्यायाधिकरण (एनसीएलटी) ने जालान कालरॉक समूह की समाधान योजना को मंजूरी (Approval)  दे दी है।

कंपनी (Company)  ने की है रीब्रांडिंग (Rebranding)

वाडिया ग्रुप (Group)  की 15 साल पुरानी एयरलाइंस (Old Airlines) GoAir ने अपनी रीब्रांडिंग (Rebranding)  की है. कम लागत (Low investment) वाली एयरलाइन (Airlines)  गो एयर अब ‘Go First’ में बदल गई है। देश में कोरोना (Corona)  महामारी की वजह से तमाम सेक्टर (Sector)  के साथ एविएशन सेक्टर (Aviation sectors) को भी काफी मुश्किलों (Loss)  का सामना करना पड़ रहा है. इससे उबरने के लिए यह अब लो कॉस्ट (Low cost)  बिजनेस मॉडल (Business model) पर फोकस (Focus) करेगी. गो एयर (Go air) अल्ट्रा लो कास्ट कैरियर (Low cost Carrier) पर फोकस (Focus) कर रही है, जिस वजह से रीब्रांडिंग (Rebranding) करने का निर्णय लिया है।

बदलाव की प्रक्रिया में कंपनी (Company)

GoAir ने मार्केट रेगुलेटर (Market regulator) सेबी में जो DRHP जमा किया है, उसमें Go First ट्रेडमार्क (Trademarks) और लोगो के रजिस्ट्रेशन (Registration) के लिए भी अप्लाई (Apply) किया है. एयरलाइन (Airlines) ने कहा कि उसने पहले ही नए ब्रांड नेम (Brand name)  और ट्रेडमार्क (Trade mark)  का इस्तेमाल शुरू कर दिया है। GoAir का कहना है कि नए ब्रांड (New brand) के तहत पूरे ऑपरेशन (Operation)  में बदलाव की प्रक्रिया में हैं. नए ब्रांड (New brand)  से हम बेहतर तरीके से कस्टमर्स (Customers)  को जोड़ सकते हैं।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments