Friday, December 2, 2022
HomeIPOSeven Islands Shipping को सेबी से आईपीओ (IPO) लाने की मिली...

Seven Islands Shipping को सेबी से आईपीओ (IPO) लाने की मिली मंजूरी (Approval)

लॉजिस्टिक कंपनी (Listing company) सेवन आइलैंड्स शिपिंग (Island shipping) को आरंभिक सार्वजनिक निर्गम (IPO) के जरिए Rs.600 करोड़ रुपये जुटाने (Collection) की बाजार नियामक सेबी से मंजूरी (Approval)  मिल गई है। कंपनी (Company)  आईपीओ से जुटाई गई राशि (Amount)  का इस्तेमाल (Use)  मुख्य रूप से नए जलपोत खरीदने (Dig) के लिए करेगी। कंपनी (Company) ने पिछले 18 वर्षों में 40 जहाजों (Ships)  का अधिग्रहण किया है और 20 जहाजों (Ships) को बेचा है। सेबी के पास दायर रेड (Red) हेरिंग प्रॉस्पेक्टस (Hiring prospects)  के मसौदे के अनुसार, आईपीओ (IPO) के तहत RS.400 करोड़ रुपये की राशि (amount) ताजा निर्गम के रूप में और Rs.200 करोड़ रुपये की राशि (Amount)  बिक्री पेशकश के रूप में जुटाई (Collect) जानी है।

बिक्री प्रस्ताव के तहत एफआईएच (FIH)  मॉरीशस इन्वेस्टमेंट (Investment) की ओर से Rs.100 करोड़ रुपये तक, थॉमस विल्फ्रेड (Thomas Wilfred) पिंटो की ओर से Rs.85.64 करोड़ रुपये तक और लीना मेटल्डा (metalda) पिंटो की ओर से rs.14.35 करोड़ रुपये तक जुटाए (Collection) जाएंगे।

सेबी का निरीक्षण किसी भी कंपनी (Company) के लिए IPO, सार्वजनिक प्रस्ताव (individual advice) पर अनुसरण (FPO) और अधिकारों के मुद्दे (topic) जैसे सार्वजनिक मुद्दों (topics) को लॉन्च (Launch)  करने के लिए बहुत जरूरी (Important) है। इससे पहले, कंपनी (Company) ने 2017 में पूंजी बाजारों (Market)  को टैप करने की कोशिश (Try)  की थी। ड्राफ्ट पेपर्स (Draft papers)  के अनुसार, योग्य संस्थागत खरीदारों (Buyers)  के लिए आरक्षित हिस्सा (Share) ऑफर के 50 फीसदी तक होगा, और गैर-संस्थागत (Non government) निवेशकों के पास आरक्षित हिस्से (Share) का 15 फीसद तक होगा। खुदरा निवेशकों के लिए 35 प्रतिशत तक आरक्षित होंगे।

कंपनी (Company) ने 2003 में एक पोत के साथ अपना परिचालन शुरू किया था और मौजूदा समय (time)  में 20 भारतीय-ध्वजांकित और भारतीय (Indian) स्वामित्व वाली मालवाहक जहाजों (Ships)  की कुल वजन (Weight)  टन क्षमता (Captivity) 1,105,682 मीट्रिक टन है। पिछले 18 वर्षों (Years) में, कंपनी ने 40 जहाजों (Ships) का अधिग्रहण किया है और 20 जहाजों (Ships) को बेचा है।

फंड (Fund) कहां होगा इस्‍तेमाल (Use)  और कैसा है कंपनी (Company) का रिकॉर्ड (Records)

एसआईएस (SIS) फ्रेश इश्यू से जुटाए फंड (fund) का इस्तेमाल (use)  एक मीडियम रेंज (range) क्रूड कैरियर (Carrier) वेसल और एक लार्ज (large) क्रूड कैरियर वेसल (vessel) खरीदने पर करेगी। इन दोनों (Dono) जहाज (Ships) पर कुल Rs.352.43 करोड़ रुपये खर्च (investment) होंगे। कंपनी (Company) ने 2003 में एक जहाज (Ships)  के साथ बिजनेस (Business)  शुरू किया था। जनवरी (January) 2021 तक कंपनी (Company) के पास 20 लिक्विड (Liquid) कार्गो वेसल्स हैं. इसकी कुल (all) क्षमता 11,05,682 मीट्रिक (mitrik)  टन है। क्रिसिल  के मुताबिक, कंपनी (Company)  भारत (Indian) की उन चुनिंदा कंपनियों (Company)  में शामिल है, जिन्होंने पिछले तीन (last three) वित्‍त वर्ष से लगातार मुनाफा (interest) कमाया है। इश्यू के बुक रनिंग लीड (lead) मैनेजर्स जेएम फाइनेंशियल्स (Financial) और आईआईएफएल सिक्योरिटीज (IIFL Securities) नियुक्त किए गए हैं।

कंपनी (Company) की खास बातें

Seven Islands Shipping ने वर्ष 2003 में एक जहाज (Ship) के बिजनेस (Business)  शुरू किया था। जनवरी (January) 2021 तक कंपनी (Company) के पास 20 लिक्विड (Liquid) कार्गो वेसल्स (Vessels)  है। इसकी कुल क्षमता (Capacity) 11,05,682 मीट्रिक टन है। आपको बता दें कि मार्च (March)  2003 में कंपनी (Company)  की क्षमता 6009 मीट्रिक टन डेडवेट (deadweight) थी। लेकिन मार्च (March)  2010 तक यह बढ़कर 66,889 मीट्रिक टन डेडवेट (Deadweight)  हो गई। डेडवेट (Deadweight)  के मायने किसी बहुत (Extra)  भारी चीज से है।

 एक रिपोर्ट (Report) के मुताबिक, Seven Islands Shipping का शुमार भारत (India) की उन चुनिंदा कंपनियों (Company) में है जिन्होंने पिछले तीन फिस्कल (physical) ईयर से लगातार नेट (Net) प्रॉफिट बनाया है। फिस्कल ईयर 2018 से 2020 तक कंपनी (Company)  की कॉन्ट्रैक्ट्स 31.3 फीसदी CAGR और कुल आमदनी (Total.income)  से 14 फीसदी CAGR से बढ़ी है। कंपनी (Company)  के इश्यू के बुक रनिंग (book running)  लीड मैनेजर्स जेएम फाइनेंशियल्स और IIFL सिक्योरिटीज (Securities)  नियुक्त (Appointment) किए गए हैं।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments