Sunday, July 3, 2022
Homeघोस्ट स्टोरीहम चार दोस्त और वो रविवार की रात

हम चार दोस्त और वो रविवार की रात

हम चार दोस्त और वो रविवार की रात

उस रविवार  (sunday) की रात (night ) बारिश (rain) हो रही थी, मैं एक रेस्तरां में अपने  दोस्तों (friends) के साथ बहुत अच्छा समय व्यतीत कर रही थी । लगभग आधी रात (night) बीत चुकी थी और रेस्तरां बंद होने वाला था इसलिए हमे वहां से निकलना पड़ा। हम बाहर आए और हमने एक दुसरे को गुड बाय कहा और फिर मैं अपनी कार (your car) की ओर चली। मैं कार के अंदर (Inside) गयी और गाड़ी स्टार्ट करके अपने घर (House) की ओर जाने लगी । वह एक लंबा दिन था और वास्तव में  बहोत थक गयी  थी । यहाँ से मेरे घर की ड्राइविंग डिस्टेंस (driving distance) लगभग एक घंटे की थी।

रास्ते में (On th eway) मुझे नींद (sleep) महसूस होने लगी  इसलिए मैंने खुद को जगाये रखने के लिए रेडियो (redio) चालू कर दिया। लेकिन रेडियो (redio) के साथ कुछ समस्या (problem) थी; कोई भी चैनल नहीं पकड़ रहा था और सिर्फ झिलमिलाने वाली आवाज आ रही थी।

मैं गाड़ी चलाते (run) हुए रेडियो (redio) को चेक कर रही थी  तभी अचानक मैंने देखा कि कोई सड़क के बीचो- बिच मेरे कार के सामने कोई खड़ा था। मैं स्टेरिंग (steering) को बाएं घुमाते हुए जोर का ब्रेक (brake) लगाया। कार के टायर से तेज आवाज  हुई और कार रुक गई। मैं कार से बाहर यह देखने के लिए निकली की उसे कुछ हुआ तो नहीं लेकिन वहां कोई नहीं था। मैंने अपने कार के चारों ओर देखा और वहां भी जहां मैंने उस व्यक्ति को खड़ा देखा था, लेकिन चारों ओर देखने के लिए कोई नहीं था। लेकिन वहां कोई भी नहीं था, नाहीं कोई टायर मार्क्स थे, ऐसा कुछ भी नहीं था जिस से यह लगे की वहां कुछ हुआ भी है।

मैंने सोचा कि मेरा दिमाग (brain) अब मेरे बस में नहीं हैं, क्यूंकि सचमुच उस समय मुझे बहुत नींद आ रही थी। मैं अपनी कार में वापस गयी कार की जांच की, सबकुछ काम कर रहा था, रेडियो (redio ) को छोड़कर। इस घटना के बाद मैं थोडी कमजोर (Weak) महसूस कर रही थी और फिर मैं धीरे-धीरे अपने घर की ओर बढ़ने लगी । मैं 1 बजे रात में घर पहुची |

जैसे ही मैं अंदर आयी , मेरा फोन (phone ) बजा। यह एंडी था, यह उन्ही फ्रेंड्स में से एक था जिनके साथ मैं आज रात कुछ देर पहले साथ मैं रात का खाना खाया था । वह चिंतित था और उसने कहा कि वह यह जांचने के लिए कॉल (call ) किया है कि मैं  सुरक्षित रूप से घर पहुँची या नहीं।

मैंने उस से कहा कि मैं ठीक हूँ और पूछा कि क्या हुआ है तुम इतने परेशान (worried) क्यूँ हो? वह उलझन में और डर हुआ लग रहा था। उसने कहा कि घर जाते समय (time ) उसने एक आदमी को देखा जो बिलकुल तुम्हारे तरह दिख रहा था और वह सड़क के बिलकुल बीचो-बिच खड़ा था। मैंने सोचा कि उसने मुझे अपनी कार से टकर मार दिया, लेकिन जब मैंने  बाहर निकल कर देखा, तो वहां कोई नहीं था।

यह बात (talk) बहुत ही अजीब थी । मैंने कहा कि मैंने भी यही चीज़ अनुभव (Experience) की है। तो उसने कहा कि उसने अन्य दो दोस्तों को भी कॉल किया था (call friends too), और यहां तक कि उन्होंने भी कुछ ऐसा ही देखा। वह यह कह कर घबराना शुरू कर दिया, मैंने उससे कहा कि अभी इसके बारे में ज्यादा मत सोचो और बस बिस्तर पर जाओ और अच्छे से सो जाओ, हम कल इस बारे में बात करेंगे। कॉल के बाद (after the call) मैं बहुत अच्छा गर्म शावर लिया और फिर सोने चली  गयी।

अगली सुबह (morning) हम चारों ने उस रेस्तरां में ही मिलने और कल रात की घटनाओं (events) पर चर्चा करने का फैसला किया था । मैं वहां सबसे पहले पहुँच गयी  लेकिन वहां कल रात जो रेस्तरां

Shmashaan Ghaat Ki Kahani | श्मशान घाट की कहानी | Horror Story In Hindi

था वह राख में बदल गया था | पूरा रेस्तरां जल गया था। पूरी जगह आग से पूरी तरह से नष्ट हो गई थी। पैरामेडिक्स और फायरमैन (Paramedics and Firemen ) किसी भी जीवित व्यक्ति की खोज कर रहे थे और डेड बॉडीज (dead bodies) को निकालने की कोशिश कर रहे थे।

मैं देखा की कुछ लोग सड़क (some people street) की दूसरी तरफ से खड़े हो कर यह सब देख रहे थे | मैं वहां गयी और उनमें से एक से पूछा कि यहाँ क्या हुआ था।

उन्होंने कहा कि कल रात (night ) आग लग गई थी, बहुत बड़ा और भयानक आग (terrible fire)। कोई भी बच नहीं पाया, सभी लोग इमारत के अंदर फंसे रह गए थे। आग इतना तेज था की कोई बाहर नहीं निकल पाया और जब तक फायर बिग्रदे और पैरामेडिक्स (Bigrades and Paramedics) यहाँ पहुंचे तब तक सब कुछ ख़तम हो चूका था और सभी लोग पहले ही मर चुके थे।

मुझे यह सब बहुत ही अजीब लग रहा था क्योंकि हमने कल रात ही यहाँ खाना खाया था। मैं अपने दोस्तों की प्रतीक्षा करने के लिए सड़क की तरफ गयी । जैसे ही मैं जा रही थी , मैंने देखा कि एक पैरामेडिक्स मृत शरीर (paramedics dead body) को ले कर जा रहा है, लेकिन उस मृत व्यक्ति का चेहरा किसी भी तरह से मुझे परिचित लग रहा था। मैंने नज़दीक से जा कर देखा और फिर मुझे याद आया कि मैंने उसे कहीं देखा था। मैं उससे कुछ मिनट पहले रोड (first road) के दुसरे साइड बात कर रही थी ! मैं उसे देखने के लिए वापस वहां गयी , लेकिन वह वहां से चला गया था। मैं सोचने लगी  कि क्या मैंने वास्तव में भूत देखा है?

इसे भी पढ़ें:- भूत का सच | Bhoot ki Sachi Kahani | Hindi Ghost Stories 

पैरामेडिक ने मृत शरीर (dead body by paramedic) को दूसरे मृत सरीर के बगल में रखा। संयोग से, यह भी परिचित लग रहा था। मेरे आश्चर्य (wonder) के लिए, यह वहि व्यक्ति था जिसे मैंने कल रात देखा था। मैं सोचा कि मैं लगभग अपनी कार से इसे मार चुकी थी । लेकिन उसके घावों से, ऐसा लग रहा था कि वह आग से जल कर मर गया था। यह सब देख कर मेरा सिर स्पिन हो रहा था।

ये सब क्या हो रहा था? ऐसा लग रहा था की जैसे अचानक मैं भूत (Ghost) को हर जगह देख रही थी ।

इस समय (time ) तक, मेरे दोस्त (friend) एंडी भी वहां पहुंच गया और जला हुआ रेस्तरां देख कर चौक गया। उसने कहा, “भला यह कैसे संभव है?”

भूतिया कमरा | Horror Stories in Hindi | Ghost Story

फिर उसने कहा, “हम लोग तो यहां last थे, और owner ने कहा कि उन्हें resturant बंद करनी है।”

फिर मैंने कहा – “हाँ मुझे पता है (Yes, I know) यह सब बहुत अजीब है, यह जगह जल चुकी है और अचानक मुझे हर तरफ सिर्फ भुत ही भूत दिख रहा है”।

एंडी ने पूछा, “क्या भूत?”

मैंने उसे वहां मौजूद मृत शरीर के बारे में बताया जिसे मैंने कल रात और आज सुबह (today morning) रोड किनारे देखा था।

एंडी ने कहा “यह बहुत अजीब है।” “मैंने कोई भूत नहीं देखा, लेकिन मुझे कल रात मेरी कार के सामने तुम दिखे थे, तुमको याद है न …”

जैसे ही उसने यह सब बोला तो मेरी नज़र पैरामेडिक्स की तरफ गयी, वे चार डेड बॉडीज (dead bodies) को वहां से निकाल कर ला रहे थे – एंडी, मी, और हमारे दो अन्य दोस्त। सभी चार जल चुके थे।

मैंने एंडी को देखा, फिर मेरे जले और निर्जीव शरीर (inanimate body) पर मेरी आखें टिक गयी … मेरी ही आंखों के ठीक सामने मुझे ले जाया जा रहा था …

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments