Sunday, July 3, 2022
Homeस्वास्थ्य और तंदुरुस्तीपुदीने की चाय के फायदे और नुकसान | Benefits and harms of...

पुदीने की चाय के फायदे और नुकसान | Benefits and harms of mint tea

पुदीने (mint) का उपयोग लंबे समय से भोजन को एक अलग स्वाद और सुगंध देने के लिए किया जाता रहा है। खासतौर पर धनिया-पुदीने की चटनी को पकौड़े के साथ खाते समय मुंह में पानी आ जाता है। वैसे पुदीना का उपयोग औषधि के साथ-साथ भोजन के रूप में भी किया जा सकता है।

Treatment उद्देश्यों के लिए, पुदीने की चाय से बेहतर कुछ नहीं है। परिणामस्वरूप, इस लेख में पुदीने (mint) की चाय के बारे में बताएंगे। पुदीने की चाय के फायदे के साथ-साथ पुदीने की चाय पीने से होने वाली नुकसान के बारे में बताएंगे। तो चलिए शुरू करते हैं:-

इसे भी पढ़े

सीढ़ी चढ़ने के फायदे और नुकसान 

पुदीने की चाय क्या है? What is mint tea?

पुदीने (mint) की चाय एक प्रकार की हर्बल चाय है जो पुदीने की पत्तियों से बनाई जाती है। नतीजतन, पुदीने चाय में व्यावहारिक रूप से पुदीने के समान सभी गुण होते हैं। पुदीने और पुदीने की चाय का उपयोग स्वाद के साथ-साथ औषधीय के रूप में भी किया जाता है। शोध के मुताबिक, पुदीने की पत्तियों में रोजमैरिनिक एसिड (rosmarinic acid) और कई तरह के फ्लेवोनोइड्स (flavonoids) होते हैं। शोध के अनुसार पुदीने में एंटीबैक्टीरियल (antibacterial), एंटीवायरल (antiviral), एंटीऑक्सीडेंट (Antioxidants), एंटीकैंसर (anticancer) और एंटी-एलर्जेनिक (anti-allergenic) गुण भी होते हैं।

इसे भी पढ़े

चने के फायदे और नुकसान

पुदीने की चाय के फायदे | benefits of mint tea

पुदीने (mint) की चाय के स्वास्थ्य लाभ हैं जो आपको स्वस्थ रहने और बीमारी के लक्षणों को कम करने में मदद कर सकते हैं। इन लाभों के आधार पर किसी भी गंभीर बीमारी के इलाज के लिए पुदीने के उपयोग की गलती न करें। आइए जानें पुदीने की चाय के फायदों के बारे में:-

1 .पुदीने की चाय के पाचन लाभ | Digestive Benefits of Mint Tea

पाचन (digestion) एक ऐसी स्थिति है जो लगभग सभी को प्रभावित करती है। ऐसे में पुदीने की चाय पेट की समस्याओं से कुछ राहत दिला सकती है। नतीजतन, पुदीना लंबे समय से एक हर्बल पेट उपचार के रूप में उपयोग किया जाता है। कई अध्ययनों का दावा है कि पुदीने की चाय पाचन के लिए अच्छी है, हालांकि यह स्पष्ट नहीं है कि इसमें कौन सा तत्व पाचन के लिए अच्छा है।

2. माइग्रेन और तनाव सिरदर्द के लिए | For Migraine and Tension Headaches

बहुत से लोग सिरदर्द (Headache) से राहत पाने के लिए चाय पीने की सलाह देते हैं। ऐसी स्थिति में पुदीने की चाय पी जा सकती है। माना जाता है कि पेपरमिंट टी (peppermint tea) तनाव से राहत के साथ-साथ सिरदर्द और माइग्रेन में भी मदद करती है। पुदीने में मेन्थॉल (menthol) नाम का केमिकल होता है, जिसका एंटीह्यूमेटिक (antirheumatic) प्रभाव होता है। यह सुविधा सिरदर्द को कम करने में सहायता कर सकती है।

3. ताजी हवा में सांस लेने के लिए पुदीने की चाय | Mint Tea to Breathe in the Fresh Air

सांसों को तरोताजा करने में मदद के लिए पुदीना का भी उपयोग किया जा सकता है। एक अध्ययन के अनुसार, पुदीना आपके मुंह से बदबू को दूर करके आपको ताजी सांस देने में मदद कर सकता है। दरअसल, पुदीने की जीवाणुरोधी क्षमताएं इसका कारण बनने वाले रोगज़नक़ (बैक्टीरिया) को खत्म करके मुंह की दुर्गंध को दूर करने में मदद कर सकती हैं। पुदीने का उपयोग माउथ फ्रेशनर (mouth freshener) और माउथ वॉश (mouth wash) के रूप में भी किया जाता है क्योंकि इसमें मेन्थॉल (menthol) होता है, जो इसे ताजगी का एहसास देता है। इस आधार पर पुदीने की चाय का सेवन दांतों के स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होता है।

4. नाक बंद होने पर भी पुदीने की चाय | Mint tea even if the nose is blocked

नाक बंद होने पर भी पुदीने की चाय का उपयोग किया जा सकता है। एक अध्ययन के अनुसार, पेपरमिंट (peppermint) में पाया जाने वाला रासायनिक तत्व एल-मेन्थॉल (l-menthol) वायु प्रवाह को बढ़ाकर अवरुद्ध नाक में मदद कर सकता है| ऐसे में संभव है कि पुदीने की चाय पीने और उसकी भाप लेने से नाक बंद होने से राहत मिलेगी।

5. पीरियड में पुदीने की चाय | Period Mint Tea

पुदीने की चाय से मासिक धर्म में ऐंठन (Twitch) और दर्द (Pain) से छुटकारा पाया जा सकता है। एक अध्ययन के अनुसार, मासिक धर्म में ऐंठन से पीड़ित 127 छात्राओं ने पुदीने के Extract का सेवन करने के बाद दर्द में कमी का अनुभव किया।

6. एंटीबैक्टीरियल गतिविधि | Antibacterial Activity

पुदीने की पत्तियों के रोगाणुरोधी गुण सर्वविदित हैं। एक अध्ययन के अनुसार, इस प्रभाव का नकारात्मक बैक्टीरिया पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ सकता है। यह बीमारी का कारण बनने वाले कई अन्य जीवाणुओं से बचाव में भी मदद कर सकता है, जैसे ई. कोलाई और साल्मोनेला पुलोरम। नतीजतन, पुदीने की चाय शरीर को सूक्ष्मजीवों के हानिकारक प्रभावों से बचाने में कारगर मानी जाती है।

7. चैन की नींद के लिए पुदीने की चाय | Peppermint Tea for Restful Sleep

पुदीने की चाय भी आपको बेहतर नींद में मदद कर सकती है। एक अध्ययन के अनुसार, पुदीने की चाय तनाव से संबंधित अनिद्रा को कम करने में मदद कर सकती है। तनाव को कम करने और पर्याप्त नींद देने के अलावा, यह नींद की गुणवत्ता में सुधार करने में कैसे मदद करता है, इस पर और अधिक शोध की आवश्यकता है|

8. पुदीने की चाय ऊर्जा लिए | Peppermint Tea for Energy

पुदीने की पत्तियाँ एक ताज़ा सुगंध प्रदान करती हैं जो न केवल भोजन के स्वाद को बढ़ाती हैं बल्कि ठंडक भी प्रदान करती हैं। वास्तव में, पुदीने में menthol component एक सुखद Feeling प्रदान करने के लिए जाना जाता है।

9. मौसम के दौरान एलर्जी के लिए पुदीने की चाय | Mint Tea for Allergies During Seasons

पेपरमिंट टी मौसमी एलर्जी को दूर रखने में भी मदद कर सकती है। पुदीने में एंटी-एलर्जेनिक (anti-allergenic) प्रभाव होता है, जो एलर्जी में मदद कर सकता है। इसके अलावा पुदीने की चाय में रोजमैरिनिक एसिड (rosmarinic acid) पाया जाता है। इस एसिड में एंटी-एलर्जेनिक (anti-allergenic) और एंटी-इंफ्लेमेटरी (anti-inflammatory) गुण होते हैं। ये दोनों क्रियाएं सर्दियों में (आंख और नाक की एलर्जी) एलर्जी राइनोकॉन्जक्टिवाइटिस से बचाने के लिए एक साथ काम कर सकती हैं।

10. एकाग्रता में सुधार | Improve Concentration

पुदीने की चाय भी एकाग्रता में सुधार करने में मदद कर सकती है। पुदीने की चाय में मेन्थॉल, वास्तव में, कोलिनेस्टरेज़ एंजाइम को Blocked करने की क्षमता रखता है। पुदीने की चाय इसके प्रभाव के कारण याददाश्त और ध्यान केंद्रित करने में मदद कर सकती है। पुदीने की चाय अल्जाइमर रोग (कमजोर याददाश्त) की रोकथाम में भी मदद कर सकती है।

पुदीने की चाय के नुकसान | disadvantage of mint tea

पुदीने (mint) और पुदीने की चाय निस्संदेह सहायक होती है, लेकिन अत्यधिक सेवन के नकारात्मक परिणाम हो सकते हैं। , हमने पुदीने की चाय पीने के नुकसान के बारे में बताएंगे :-

पेपरमिंट टी (peppermint tea) का सेवन करने से पहले लो ब्लड प्रेशर वाले लोगों को डॉक्टर या एक्सपर्ट के पास जाना चाहिए, क्योंकि पेपरमिंट टी में ब्लड प्रेशर कम करने वाले गुण होते हैं।
वैसे पुदीने की चाय गर्भवती महिलाओं या उनके गर्भ में पल रहे बच्चों के लिए हानिकारक नहीं मानी जाती है। हालांकि, इस चाय में इमेनगॉग (emmenagogue) प्रभाव के कारण, इसका अधिक मात्रा में पीने से बचना सबसे अच्छा है। इमेनगॉग (emmenagogue) प्रभाव, वास्तव में, गर्भाशय में रक्त के प्रवाह को बढ़ा सकता है। नतीजतन, गर्भपात का खतरा बढ़ सकता है।

इसे भी पढ़े

गाय के दूध के फायदे और नुकसान

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments