Wednesday, December 7, 2022
Homeस्वास्थ्य और तंदुरुस्तीचने के फायदे और नुकसान | Benefits and harms of chana

चने के फायदे और नुकसान | Benefits and harms of chana

क्या आप जानते हैं कि चने (chana) को सुबह सबसे पहले खाली पेट लेना सबसे अच्छा क्यों है, खासकर एथलीटों और व्यायाम (athletes and exercise) करने वालों के लिए? अंकुरित आहार में चना इतना महत्वपूर्ण क्यों है? दूध के साथ चना खाने के भी कई फायदे हैं। शोध के अनुसार दूध पीने से मोटापा, मधुमेह और हृदय रोग का खतरा कम होता है। दूसरी ओर, चने को कई तरह की बीमारियों के इलाज में प्रभावी पाया गया है, जिसमें गले की समस्याएं, रक्त विकार, त्वचा रोग और यकृत और पित्ताशय की समस्याएं शामिल हैं। गुड़ के साथ भी चने का सेवन करने के कई फायदे हैं। अध्ययन के अनुसार, गुड़ और चने में मौजूद पोटेशियम (potassium) रक्त में कोलेस्ट्रॉल (cholesterol) के स्तर को कम कर सकता है, जिससे दिल का दौरा पड़ने का खतरा कम होता है। यह शरीर के एसिड के स्तर को नियंत्रण में रखने में भी मदद कर सकता है। शरीर की विभिन्न स्थितियों के लिए चने (chana) खाने के फायदे और इसे खाने के तरीके के बारे में इस पोस्ट में जानें।

इसे भी पढ़े

आंवला और शहद के फायदे और नुकसान

चने के पोषक तत्व

पोषक तत्व मात्रा (प्रति 100 ग्राम)
पानी 60.21 ग्राम
ऊर्जा 360 केसीएल
प्रोटीन 17 ग्राम
कुल फैट 5 ग्राम
कार्बोहाइड्रेट 60 ग्राम
फाइबर 7.6 ग्राम
कुल शुगर 4.8 ग्राम
कैल्शियम 202 मिलीग्राम
आयरन 2.89 मिलीग्राम
मैग्नीशियम 48 मिलीग्राम
फास्फोरस 168 मिलीग्राम
पोटैशियम 291 मिलीग्राम
सोडियम 7 मिलीग्राम
जिंक 1.53 मिलीग्राम
विटामिन सी 1.3 मिलीग्राम
थियामिन 0.116 मिलीग्राम
राइबोफ्लेविन 0.063 मिलीग्राम
नियासिन 0.526 मिलीग्राम
विटामिन बी – 6 0.139 मिलीग्राम
फोलेट 172 माइक्रोग्राम
विटामिन ए (RAE) 1 माइक्रोग्राम
विटामिन ए 27 आईयू
विटामिन ई (अल्फा-टोकोफेरॉल) 0.35 मिलीग्राम
विटामिन K1 (फाइलोक्विनोन) (μg) 4.0 माइक्रोग्राम
फैटी एसिड कुल सैचुरेटेड 0.269 ग्राम
फैटी एसिड, कुल मोनोअनसैचुरेटेड (g) 0.583 ग्राम
फैटी एसिड, कुल पॉलीअनसैचुरेटेड (g) 1.156 ग्राम

काबुली चना क्या है? What is Kabuli Chana?

सिसर एरीटिनम चने (chana) का वैज्ञानिक नाम है, जो फलियां की एक प्रजाति है। गारबानो बीन्स इसका दूसरा नाम है। यह फलियां परिवार का सदस्य है, जो दुनिया भर में व्यापक रूप से उगाया जाता है। भारत इसका सबसे ज्यादा उत्पादन करता है। इसमें कार्बोहाइड्रेट (Carbohydrate), प्रोटीन (protein), फाइबर (fiber)और विटामिन बी (Vitamin B) सहित कई अतिरिक्त पोषक तत्व प्रचुर मात्रा में होते हैं।

चने के फायदे | benefits of chana

चने (chana) के फायदे पेट भरने तक ही सीमित नहीं हैं, यह कई तरह की स्वास्थ्य समस्याओं में भी मदद कर सकता है। साथ ही, यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि चने किसी भी स्थिति के लिए इलाज नहीं हैं। इसका उपयोग शरीर को स्वस्थ और रोग मुक्त रखने के लिए किया जा सकता है।

1 . ब्लड शुगर | blood sugar

चने को शरीर में रक्त शर्करा के स्तर को managed करने में मदद करने के लिए दिखाया गया है। अध्ययन के मुताबिक, चना शरीर में अतिरिक्त ब्लड शुगर को कम करने का काम कर सकता है। अत्यधिक भूख मधुमेह (Diabetes) के कारणों में से एक है, और चना भूख कम करने में मदद कर सकता है। यह कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स (glycemic index) वाले खाद्य पदार्थों में से एक है। यह फाइबर (fiber) और प्रोटीन (protein) जैसे पोषक तत्वों में भी उच्च है, जो रक्त शर्करा के नियमन में सहायता कर सकता है।

2. गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल सिस्टम | Gastrointestinal System

काबुली ग्राम में कई पाचन स्वास्थ्य लाभ भी हैं। इसमें बहुत सारा फाइबर (fiber) होता है। नतीजतन, चना पेट की समस्याओं जैसे गैस (gas), कब्ज (Constipation), दस्त (Diarrhea) और कठोर मल को कम करके स्वस्थ पाचन में सुधार करने में मदद कर सकता है। दूसरी ओर, फाइबर, पेट के कैंसर के साथ-साथ कब्ज जैसी बीमारियों की घटनाओं को कम कर सकता है। इस आधार पर, यह निष्कर्ष निकालना उचित होगा कि अंकुरित चने के कई पाचन लाभ हैं। खाली पेट अंकुरित चना रोज सुबह खा सकते हैं।

3. वजन कम करने में | Helps Lose Weight

मोटे लोगों को चने का सेवन करने की अनुमति है। जैसा कि पहले स्थापित किया गया था, चने में कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स (glycemic index) होता है, जो भूख को कम करके वजन घटाने में मदद कर सकता है। इसके अलावा, चना फाइबर (chana fiber) और प्रोटीन (protein) में उच्च होता है, जो दोनों वजन घटाने में मदद कर सकते हैं। साथ ही जब चने को छिलके के साथ खाया जाता है तो यह धीरे-धीरे पचता है और लंबे समय तक भूख नहीं लगती है। ऐसे में वजन घटाने के लिए सूखा या भीगा हुआ चना खाने के फायदे बताए जा सकते हैं।

4. कैंसर | Cancer

एक अध्ययन के अनुसार चना ब्लड शुगर और वजन को कम कर कैंसर जैसी खतरनाक बीमारियों से बचने में मदद कर सकता है। कोशिका प्रसार को कम करके और एपोप्टोसिस (apoptosis) को ट्रिगर (trigger) करके कोलोरेक्टल कैंसर (colorectal cancer) से बचाने में मदद कर सकता है। इसके अलावा, चने में पाए जाने वाले बायोएक्टिव रसायन (bioactive chemicals), जैसे लाइकोपीन (lycopene), बायोइसिनिन-ए और सैपोनिन (Bioisinin-A and Saponins), कैंसर की रोकथाम में सहायता कर सकते हैं।

5. कोलेस्ट्रॉल और हृदय स्वास्थ्य | Cholesterol and Heart Health

दिल के लिए चने का सेवन करने के कई फायदे हैं। एक अध्ययन के अनुसार, चना कुल कोलेस्ट्रॉल और एलडीएल (खराब कोलेस्ट्रॉल) के स्तर को कम कर सकता है। इतना ही नहीं, बल्कि इसमें मौजूद फाइबर कुल कोलेस्ट्रॉल और एलडीएल कोलेस्ट्रॉल पर अनुकूल प्रभाव डालता है, जिससे हृदय रोग का खतरा कम होता है। इस आधार पर, यह निष्कर्ष निकाला जा सकता है कि स्वस्थ हृदय के लिए भीगे हुए चने खाने के लाभों को कोलेस्ट्रॉल के Management के माध्यम से दिखाया जा सकता है।

6. आंखों के लिए | For the eyes

आंखों के लिए चने सहित कई स्वास्थ्य लाभ हैं। आपको बता दें कि चना विटामिन सी (vitamin C) और बीटा-कैरोटीन (beta carotene) से भरपूर होता है। उसी समय, ‘उम्र से संबंधित नेत्र रोग अध्ययन’ ने पाया कि बीटा-कैरोटीन (beta carotene) लोगों की उम्र बढ़ने के साथ दृष्टि हानि के जोखिम को कम कर सकता है। इसके अलावा, विटामिन सी को लंबे समय से आंखों के स्वास्थ्य के लिए आवश्यक माना जाता रहा है। यह निष्कर्ष निकालना वाजिब है कि अंकुरित या भुने हुए चना खाने के फायदे ऐसी स्थिति में आंखों के लिए देखे जा सकते हैं।

7. हड्डियों के लिए | For Bones

चने के कई हड्डी-स्वास्थ्य लाभ हैं। एक संबंधित अध्ययन के अनुसार, अंकुरित चने के अर्क में पाए जाने वाले आइसोफ्लेवोन्स (isoflavones) की एस्ट्रोजेनिक गतिविधि एस्ट्रोजन की कमी के कारण होने वाले ऑस्टियोपोरोसिस के उपचार में फायदेमंद हो सकती है।

8. एनीमिया लिए | For anemia

डॉक्टर विशेषताएं एनीमिया जैसी घातक स्थितियों को रोकने में भी मदद कर सकती हैं। दरअसल, एनीमिया (anemia) को शरीर में आयरन की कमी के कारण माना जाता है। वहीं, चना आयरन (Iron) का अच्छा स्रोत (Source) है। ऐसे में इसका सेवन शरीर के अंदर आयरन (Iron) की कमी को दूर करके एनीमिया (anemia) के इलाज में मदद कर सकता है।

9. गर्भावस्था में सहायक | Aids in Pregnancy

काबुली चना गर्भवती महिलाओं के लिए भी फायदेमंद साबित हुआ है। इसमें फोलेट की मौजूदगी इसका मुख्य कारण है। यह एक विटामिन बी है जो मां और भ्रूण दोनों के स्वास्थ्य के लिए आवश्यक है। गर्भावस्था से पहले और उसके दौरान, पर्याप्त फोलिक एसिड प्राप्त करने से बच्चे के मस्तिष्क या रीढ़ की हड्डी में जन्म संबंधी असामान्यताओं से बचने में मदद मिल सकती है।

10. महिलाओं को अपने हार्मोन को संतुलित करने में मदद | Helping Women Balance Their Hormones

इसके अलावा, चना खाने से महिलाओं को अपने हार्मोन को संतुलित (Balanced) करने में मदद मिल सकती है। चने में भरपूर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट (Antioxidants) गुण होते हैं । इसकी यह संपत्ति उम्र के साथ आने वाले प्रजनन हार्मोन में कमी के साथ-साथ menopause के बाद के लक्षणों के नकारात्मक प्रभावों का मुकाबला करने के लिए एक प्राकृतिक strategy हो सकती है। अपनी एस्ट्रोजेनिक विशेषताओं के कारण, चना menopause के लक्षणों और एस्ट्रोजन की कमी के साथ भी मदद कर सकता है।

11. दर्द और सूजन में कमी | Reduction in Pain and Swelling

दर्द और सूजन में भी भीगे हुए चने खाने के फायदे महसूस किए जा सकते हैं। एक अध्ययन में पाया गया कि चना को हाइपोकैलोरिक (hypocaloric) आहार के साथ मिलाने से दर्द और सूजन को कम करने में मदद मिल सकती है। इसके अलावा, चना खाने से सूजन संबंधी समस्याओं में मदद मिल सकती है क्योंकि इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी (anti-inflammatory) गुण होते हैं।

12. प्रोटीन स्रोत | Protein Source

चना को उच्च प्रोटीन वाला भोजन भी माना जाता है। 100 ग्राम ग्राम में लगभग 8.86 ग्राम प्रोटीन होता है। जैसा कि हम सभी जानते हैं कि प्रोटीन हमारे शरीर के लिए एक महत्वपूर्ण है। इसमें हड्डी, मांसपेशियों और त्वचा के विकास में सहायता करने की क्षमता है। चूंकि प्रोटीन हमारे शरीर में वसा या कार्बोहाइड्रेट (fat or carbohydrate) के रूप में जमा नहीं होता है, इसलिए नियमित रूप से पर्याप्त प्रोटीन लेना महत्वपूर्ण है। ऐसे में प्रोटीन की कमी को दूर करने के लिए चना अंकुरित करने के फायदे माने जा सकते हैं|

चने के नुकसान | Disadvantages of chana

चने (chana) खाने के फायदे और नुकसान दोनों पहलू होते हैं। तो, यहाँ अतिरिक्त चना खाने के कुछ नुकसान पहलू हैं:-

  • चना फाइबर (fiber) का एक अच्छा स्रोत हैं। नतीजतन, इनका बहुत अधिक सेवन करने से गैस, सूजन और पेट में ऐंठन हो सकती है।
  • चना के सेवन से लैथिरिज्म (lathyrism) नामक बीमारी का खतरा बढ़ सकता है। पैरों में कमजोरी इस स्थिति का एक सामान्य लक्षण है।
  • चना में एंटीन्यूट्रिशनल (antinutritional) जैसे फाइटिक एसिड (phytic acid), लेक्टिन (Lectin), ओलिगोसेकेराइड (oligosaccharides) और अन्य फेनोलिक यौगिक शामिल हैं, जो शरीर में पोषक तत्वों के कामकाज में Interference कर सकते हैं।

इसे भी पढ़े

बीयर के फायदे और नुकसान

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments