Friday, December 2, 2022
Homeस्वास्थ्य और तंदुरुस्तीपेट कम करने के लिए योगासन | yoga asanas to reduce belly

पेट कम करने के लिए योगासन | yoga asanas to reduce belly

वजन कम करने और शरीर की अतिरिक्त चर्बी को दूर करने के लिए आप जिम में खूब मेहनत करते हैं। व्यायाम के अलावा आहार भी महत्वपूर्ण है। वैसे तो वजन घटाने के लिए संतुलित आहार खाना बहुत जरूरी है। वहीं जो लोग इस बात से अनजान हैं वे अपना मनपसंद खाना भी खाना बंद कर देंगे। आप कई तरह से वजन कम करने की कोशिश कर रहे हैं। इन सभी का आपके शरीर पर कई बार विपरीत प्रभाव पड़ सकता है। योग (yoga) सबसे कारगर इलाज है। योग में प्राकृतिक रूप से सभी बीमारियों का इलाज करने की क्षमता है। यदि आप नियमित रूप से इसका अभ्यास करते हैं तो योग वजन कम करने में आपकी मदद कर सकता है। इसके अलावा योग पेट के जमाव को कम करने में मदद करता है। चार योग मुद्राएं हैं जो पेट की चर्बी को जल्दी कम करने में आपकी मदद कर सकती हैं।

क्या आपके पेट की चर्बी भी है? क्या आपके पेट के बल झुकना दर्दनाक है? जब आप चलते हैं या सीढ़ियाँ चढ़ते हैं तो क्या आपकी सांस फूल जाती है? अगर ऐसा है, तो आप अधिक वजन या मोटापे के शिकार हो गए हैं। मोटापा कई तरह की शारीरिक समस्याएं पैदा कर सकता है, इसलिए इसका ध्यान रखना जरूरी है। इस post में, हम आपको पेट कम करने के लिए कई बेहतरीन योग (yoga) दिखाएंगे जो आपकी मदद करेंगे। योगासनों के बारे में जानने के लिए कृपया पूरा post पढ़ें जो पेट की चर्बी कम करने में आपकी मदद कर सकते हैं।

इसे भी पढ़े

स्लिप डिस्क के लक्षणों और इलाज

टिटनेस के कारण और लक्षण

ज्यादा नींद आने के कारण

पेट कम करने के लिए योगासन | yoga asanas to reduce belly

मधुमेह, हृदय रोग, स्ट्रोक, गठिया, उच्च रक्तचाप और कैंसर ये सभी बीमारियां हैं जो एक मोटे व्यक्ति के लिए अतिसंवेदनशील होती हैं। वहीं, एक अध्ययन के मुताबिक, नियमित योग (yoga) से आपको पेट की चर्बी कम करने में मदद मिल सकती है। यह न केवल वजन कम करने में मदद कर सकता है, बल्कि इससे जुड़ी बीमारियों और शारीरिक समस्याओं के जोखिम को भी कम कर सकता है |

1. ताड़ासन | Tadasana

ताड़ासन, एक योग मुद्रा जो आपको पेट की चर्बी कम करने में मदद कर सकती है, शुरू करने के लिए एक अच्छी जगह है। इससे आप अपने पूरे शरीर में खिंचाव महसूस कर सकते हैं। रक्त प्रवाह में भी सुधार किया जा सकता है। साथ ही, एक अध्ययन में पाया गया कि ताड़ासन और अन्य योग (yoga) का अभ्यास करने से अतिरिक्त पेट की चर्बी कम करने में मदद मिल सकती है। वहीं, मोटापा कम करने के अलावा जीवन की अवधि को बढ़ाना संभव है।

कैसे करें :-

  • सबसे पहले और सबसे महत्वपूर्ण, अपने पैरों, कमर और गर्दन को सीधा रखते हुए एक सीधी मुद्रा बनाए रखें।
  • अब गहरी सांस लेते हुए हाथों को सिर के ऊपर उठाएं और पूरे शरीर को ऊपर की ओर खींचे। हथेलियां आसमान की ओर होनी चाहिए।
  • उसी समय अपनी एड़ियों को ऊपर उठाएं। पैर की उंगलियां शरीर के संतुलन का केंद्र होनी चाहिए।
  • ऐसा करते समय अपने पैर की उंगलियों से अपने हाथों के शीर्ष तक खिंचाव महसूस करें।
  • कुछ सेकंड के लिए इस स्थिति में बने रहें, सामान्य रूप से सांस लेते और छोड़ते रहें।
  • फिर धीरे-धीरे प्रारंभिक स्थिति में लौट आएं।
  • इनमें से कम से कम दो से तीन चक्र एक साथ पूरे किए जा सकते हैं।
2. त्रिकोणासन | Trikonasana

इसका उपयोग पेट कम करने वाले योगासनों में किया जा सकता है। इस आसन को करते समय शरीर त्रिभुज जैसी मुद्रा में होता है, इसलिए इसे त्रिकोणासन कहते हैं। आसन का अर्थ है मुद्रा और त्रिकोण का अर्थ है तीन कोण। त्रिकोणासन, अन्य योग स्थितियों के साथ, विभिन्न प्रकार के योगों के अध्ययन में पेट की चर्बी को कम करने में प्रभावी पाया गया है। साथ ही यह आसन कमर के आसपास की चर्बी को कम करने में मदद कर सकता है।

कैसे करें :-

  • खड़े होने पर अपने पैरों के बीच दो फुट का फासला बना लें। अपने शरीर और दोनों हाथों के बीच एक सीधी रेखा बनाए रखें।
  • अपनी बाहों को कंधे तक फैलाएं और सांस लेते हुए अपने दाहिने हाथ को अपने कान के पास लाएं और इसे बंद कर दें।
  • धीरे-धीरे सांस छोड़ते हुए कमर से बायीं ओर झुकें। अपने दाहिने हाथ को अपने कान के पास रखें और इस अभ्यास के दौरान अपने घुटनों को मोड़ें नहीं।
  • अब अपने दाहिने हाथ को जमीन से मिलाने की कोशिश करें। अपने बाएं हाथ का उपयोग करते हुए, बाएं टखने को छूने का प्रयास करें।
  • सामान्य रूप से सांस लेते हुए इस स्थिति को लगभग 10-30 सेकंड तक बनाए रखें।
  • फिर सांस लेते हुए वापस अपनी मूल स्थिति में आ जाएं।
  • यही प्रक्रिया दाहिनी ओर भी करें।
  • ऐसे तीन से चार चक्र पूरे करना संभव है।
3. पार्श्वकोणासन | Parshvakonasana

पार्श्व एक संस्कृत शब्द है जिसका अर्थ है “पक्ष।” इस योग (yoga) को करते समय शरीर एक तरफ की मुद्रा में होता है, इसलिए इसका नाम पार्श्वकोणासन पड़ा। नियमित रूप से इसका अभ्यास करने से कई शारीरिक कठिनाइयों को दूर किया जा सकता है। वहीं, एक अध्ययन में दावा किया गया है कि पार्श्वकोणासन का अभ्यास करने से कूल्हे और जांघ की चर्बी कम करने में मदद मिल सकती है। नतीजतन, हम यह मान सकते हैं कि ऐसा करने से पेट की चर्बी कुछ हद तक कम हो जाएगी। हालांकि, यह निर्धारित करने के लिए और अधिक शोध की आवश्यकता है कि यह पेट की चर्बी कम करने में कितना फायदेमंद होगा।

कैसे करें :-

  • शुरू करने के लिए, सीधे खड़े हो जाएं और अपने पैरों को लगभग तीन से चार फीट अलग रखें।
  • इसके बाद दाहिने पैर को 90 डिग्री के कोण में घुमाएं।
  • फिर, जैसे ही आप एक गहरी श्वास लेते हैं, अपनी बाहों को अपने शरीर से दूर और अपने कंधों के अनुरूप ले जाएं।
  • दाएं घुटने को 90 डिग्री के कोण तक मोड़ें और सांस छोड़ते हुए दाईं ओर झुकें।
  • अब अपने दाहिने हाथ को अपने दाहिने पैर के पीछे जमीन पर रखने की कोशिश करें। अगर आपको अपना हाथ जमीन पर टिकाए रखने में परेशानी हो रही है, तो इसके बजाय इसे अपनी उंगलियों से छूने की कोशिश करें।
  • साथ ही बाएं हाथ को 60 डिग्री में लाकर और बाएं हाथ की उंगलियों को देखकर कान के पास लाने की कोशिश करें। इस दौरान ठीक से सांस लें।
  • इस स्थिति को यथासंभव लंबे समय तक बनाए रखें, फिर सांस लेते हुए सामान्य मुद्रा में लौट आएं।
  • फिर दूसरी तरफ भी यही काम करें।
4. पादहस्तासन | Padahastasana

यह दो शब्दों से मिलकर बना है योग पद, जिसका अर्थ है पैर, और हस्त, जिसका अर्थ है हाथों की कुल संख्या। पादहस्तासन का नाम इस बात के लिए रखा गया है कि इस योग को करते समय हाथों को पैरों से सटाकर जमीन पर रखा जाता है। पादहस्तासन एक योग मुद्रा है जो नियमित रूप से अभ्यास करने पर पेट की चर्बी कम करने में आपकी मदद कर सकती है। दरअसल, उन आसनों को एक अध्ययन में शामिल किया गया था जो पेट की चर्बी कम करने में मदद कर सकता है। इन योगासनों में पादहस्तासन नाम भी शामिल है। नतीजतन, पेट की चर्बी कम करने के लिए इस आसन का उपयोग किया जा सकता है।

कैसे करें :-

  • हाथों को सीधा रखें और पैरों को मिलाकर योगा मैट पर सीधे खड़े हो जाएं।
  • सांस लेते हुए हाथों को ऊपर उठाएं।
  • इसके बाद आगे की ओर झुकें और सांस छोड़ते हुए दोनों हथेलियों को पैरों के पास जमीन से छूने की कोशिश करें।
  • अपने माथे को अपने घुटनों से भी छूने की कोशिश करें।
  • इस अवस्था में सांस रोककर रखें। यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि कमर के नीचे के क्षेत्र को मुड़ना नहीं चाहिए।
  • उठने से पहले कुछ सेकंड के लिए इस स्थिति में रहें और अपने हाथों को ऊपर उठाते हुए पीछे की ओर झुकें।
  • इसके बाद फिर से सांस लेते हुए आगे की ओर झुकें। तीन से चार गुना अधिक दोहराएं।
5. सूर्य नमस्कार | Surya Namaskar

शरीर को तंदुरुस्त और स्वस्थ रखने के लिए इससे अच्छा कोई योग नहीं है। यह एक योग (yoga) का उदाहरण है जिसमें शरीर के सभी अंग एक साथ काम करते हैं। पेट कम करने में मदद के लिए इसे योगासनों में शामिल किया जा सकता है। एक अध्ययन के अनुसार, सूर्य नमस्कार का अभ्यास करने से मोटे लोगों को वजन कम करने में मदद मिल सकती है, और यह उन लोगों की भी मदद कर सकता है जो मोटे नहीं हैं, स्वस्थ वजन बनाए रखते हैं। इस आधार पर हम यह निष्कर्ष निकाल सकते हैं कि यह आसन पेट की चर्बी को कम करने में मदद कर सकता है।

कैसे करें :-

  • हस्त उत्तानासन: अब सांस भरते हुए हाथों को ऊपर उठाएं और पीछे की ओर झुकते हुए कानों के पास रखें।
  • पादहस्तासन: इसके बाद पेट के बल झुकें और सांस छोड़ते हुए हथेलियों को जमीन पर रखने की कोशिश करें। साथ ही पैरों को झुकाए बिना माथे को घुटने से छूने की कोशिश करें।
  • फिर सांस लेते हुए दाएं पैर पर बैठ जाएं और बाएं पैर को पीछे ले आएं। अश्व संचालनासन: इस स्थिति में बाएं घुटने को जमीन पर रखें।
  • दाहिना पैर पीछे ले जाएं और पार्वतासन में सांस छोड़ते हुए शरीर को बीच से ऊपर उठाएं। अपनी एड़ी को जमीन से छूने की कोशिश करें और अपनी बाहों को इस स्थिति में सीधा रखें।
  • इसके बाद सांस लेते हुए अष्टांगसन में जमीन पर लेट जाएं। इस स्थिति में केवल ठुड्डी, छाती और घुटने ही पृथ्वी को स्पर्श करेंगे। एक उठा हुआ पेट और कूल्हों को बनाए रखें।
  • शरीर के ऊपरी हिस्से को कमर से नाभि तक बिना श्वास या श्वास के ऊपर उठाएं। इस दौरान हथेलियां जमीन के करीब रहेंगी।
  • पर्वतासन : इसके बाद सांस छोड़ते हुए फिर से शरीर को बीच से उठाएंगे और एड़ियों को जमीन से स्पर्श करने का प्रयास करेंगे। साथ ही बाजुओं को सीधा रखेंगे।
  • फिर सांस लेते हुए बाएं पैर को आगे की ओर खींचे और दाएं पैर को सीधा रखते हुए उस पर बैठ जाएं। अश्व शंदनासन: दाहिने घुटने को पकड़ें और जमीन पर लात मारें।
  • पादहस्तासन में हथेलियों को जमीन पर और माथे को घुटनों से सटाकर सांस छोड़ते हुए दाहिने पैर को आगे लाएं।
  • हस्त उत्तानासन: हाथों और शरीर को ऊपर उठाएं और सांस लेते हुए पीछे झुकने की कोशिश करें।
  • पप्रणाम आसन: अंत में सीधे हो जाएं और नमस्कार की स्थिति में आ जाएं।
  • इस प्रकार एक सूर्य नमस्कार चक्र पूरा होगा। इस तरह एक बार में 20-25 चक्र पूरे किए जा सकते हैं।
  • प्रणामसन: नमस्कार की मुद्रा में योगा मैट पर सीधे खड़े हो जाएं और हाथों को छाती से लगा लें।
  • हस्त उत्तानासन: अब सांस भरते हुए हाथों को ऊपर उठाएं और पीछे की ओर झुकते हुए कानों के पास रखें।
  • पादहस्तासन: इसके बाद पेट के बल झुकें और सांस छोड़ते हुए हथेलियों को जमीन पर रखने की कोशिश करें। साथ ही पैरों को झुकाए बिना माथे को घुटने से छूने की कोशिश करें।
  • फिर सांस लेते हुए दाएं पैर पर बैठ जाएं और बाएं पैर को पीछे ले आएं। अश्व संचालनासन: इस स्थिति में बाएं घुटने को जमीन पर रखें।
  • दाहिना पैर पीछे ले जाएं और पार्वतासन में सांस छोड़ते हुए शरीर को बीच से ऊपर उठाएं। अपनी एड़ी को जमीन से छूने की कोशिश करें और अपनी बाहों को इस स्थिति में सीधा रखें।
  • इसके बाद सांस लेते हुए अष्टांगसन में जमीन पर लेट जाएं। इस स्थिति में केवल ठुड्डी, छाती और घुटने ही पृथ्वी को स्पर्श करेंगे। एक उठा हुआ पेट और कूल्हों को बनाए रखें।
  • शरीर के ऊपरी हिस्से को कमर से नाभि तक बिना श्वास या श्वास के ऊपर उठाएं। इस दौरान हथेलियां जमीन के करीब रहेंगी।
  • पर्वतासन : इसके बाद सांस छोड़ते हुए फिर से शरीर को बीच से उठाएंगे और एड़ियों को जमीन से स्पर्श करने का प्रयास करेंगे। साथ ही बाजुओं को सीधा रखेंगे।
  • फिर सांस लेते हुए बाएं पैर को आगे की ओर खींचे और दाएं पैर को सीधा रखते हुए उस पर बैठ जाएं। अश्व शंदनासन: दाहिने घुटने को पकड़ें और जमीन पर लात मारें।
  • पादहस्तासन में हथेलियों को जमीन पर और माथे को घुटनों से सटाकर सांस छोड़ते हुए दाहिने पैर को आगे लाएं।
  • हस्त उत्तानासन: हाथों और शरीर को ऊपर उठाएं और सांस लेते हुए पीछे झुकने की कोशिश करें।
  • पप्रणाम आसन: अंत में सीधे हो जाएं और नमस्कार की स्थिति में आ जाएं।
  • इस प्रकार एक सूर्य नमस्कार चक्र पूरा होगा। इस तरह एक बार में 20-25 चक्र पूरे किए जा सकते हैं।

इसे भी पढ़े

वजन कम करने के लिए कॉर्न फ्लेक्स

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments