Wednesday, December 7, 2022
Homeस्वास्थ्य और तंदुरुस्तीआलू के रस के फायदे और नुकसान | Advantages and disadvantages of...

आलू के रस के फायदे और नुकसान | Advantages and disadvantages of potato juice

लोग कई कारणों से आलू को पसंद करते हैं, जिसे “सब्जियों का राजा” भी कहा जाता है। कुछ लोग आलू करी पसंद करते हैं, जबकि अन्य आलू के पकोड़े पसंद करते हैं। वहीं, जब छोटे बच्चों की बात आती है तो वे आलू से बने फ्रेंच फ्राइज का enjoy उठाते हैं। आलू से तो लगभग सभी वाकिफ हैं, लेकिन आलू की तरह आलू का जूस भी सेहत के लिए फायदेमंद होता है। इस बात की जानकारी शायद सभी को नहीं है। तो पोस्ट को पढ़ने के बाद आप जरूर आलू के जूस को अपनी डाइट में शामिल करना चाहेंगे। हम आपको आलू के रस के स्वास्थ्य लाभों के बारे में बताने जा रहे हैं। आलू के रस (potato juice) के फायदों के बारे में जानने के लिए पढ़ते रहें।

इसे भी पढ़े

पनीर के फूल के फायदे और नुकसान 

केसर के फायदे और नुकसान

काली गाजर के फायदे और नुकसान

आलू के रस के फायदे | benefits of potato juice

आलू के रस का उपयोग विभिन्न प्रकार की बीमारियों को रोकने या उनका इलाज करने के लिए किया जा सकता है। ध्यान रखें कि यहां सूचीबद्ध आलू के रस के फायदे निजी इस्तेमाल के लिए हैं। तो अब आप जानते हैं आलू के जूस के फायदे, जिनमें निम्नलिखित शामिल हैं:-

1 . इम्युनिटी बढ़ाने के लिए | to increase immunity

इम्युनिटी बढ़ाने के लिए घरेलू उपचार में आलू के रस (potato juice) मिलाया जा सकता है। दो अलग-अलग अध्ययन इस दावे का समर्थन करते हैं। पहले अध्ययन के अनुसार आलू में पाए जाने वाले कैरोटेनॉयड्स ऑक्सीडेटिव तनाव से बचा सकते हैं और रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ा सकते हैं। वहीं, एक अन्य अध्ययन के अनुसार आलू में विटामिन सी भरपूर मात्रा में होता है। नतीजतन, आलू या आलू का रस छिलके के साथ पीने से रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाया जा सकता है। यहां तक ​​कि कोविड रोग की रोकथाम या उपचार के लिए भी आहार में आलू को शामिल करने का सुझाव दिया गया है।

2. गठिया का इलाज के लिए | To treat arthritis

कच्चे आलू के रस (potato juice) से भी गठिया का इलाज किया जा सकता है। भोजन से पहले एक से दो चम्मच कच्चे आलू का रस पीने से इसमें मदद मिलेगी। इससे शरीर में बनने वाले एसिड की मात्रा कम हो जाती है, जिससे रूमेटाइड आर्थराइटिस (एक तरह का गठिया) से कुछ राहत मिल सकती है। आलू के रस के अलावा आलू के छिलकों में कई महत्वपूर्ण पोषक तत्व होते हैं जो रूमेटोइड गठिया से राहत या रोकथाम में सहायता कर सकते हैं। हालाँकि, ध्यान रखें कि बहुत अधिक आलू का रस पीने से विषाक्तता हो सकती है। नतीजतन, दिन भर में एक छोटे आलू के रस की चुस्की लें। यदि कोई शंका हो तो केवल एक से दो चम्मच आलू के रस का ही सेवन करना चाहिए।

3. अल्सर की रोकथाम | Ulcer Prevention

आलू स्टार्च में एक सूजन-रोधी क्रिया होती है जो पेट और आंत्र रोगों के उपचार में सहायता कर सकती है। नतीजतन, कच्चे आलू के रस का सेवन कुछ हद तक पेट के अल्सर और गैस्ट्राइटिस को रोकने या कम करने में मदद कर सकता है। भोजन से पहले आधा कप आलू का रस दिन में दो से तीन बार पिया जा सकता है। आलू के रस का उपयोग पैरों के छालों या छालों के इलाज के लिए भी किया जा सकता है। हालांकि, यदि घाव या अल्सर के लक्षण गंभीर हैं, तो पहले चिकित्सकीय सहायता लें और फिर अपने डॉक्टर के निर्देशानुसार आलू के रस को अपने आहार में शामिल करें।

4. डिटॉक्सीफिकेशन में मदद | Help with Detoxification

आलू के रस का इस्तेमाल शरीर को डिटॉक्सीफाई करने, टॉक्सिन्स को दूर करने के लिए भी किया जा सकता है। अध्ययन के अनुसार आलू मेटाबॉलिक डिटॉक्सीफिकेशन (शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने) में मदद कर सकता है। इसके अलावा, आलू के छिलके की चाय पीने से लीवर की कार्यक्षमता में सुधार, शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालने और पित्ताशय की समस्याओं से बचने में मदद मिल सकती है। आलू और आलू का रस भी रक्त शुद्धि में सहायता कर सकता है।

5. कोलेस्ट्रॉल में कमी | Cholesterol Reduction

आलू में आधा घुलनशील और आधा अघुलनशील फाइबर भी होता है। इसमें कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करके प्रबंधित करने की क्षमता होती है। इसके अलावा, आलू में शामिल फ्लेवोनोइड्स खतरनाक कोलेस्ट्रॉल के स्तर (एलडीएल) को कम करने में मदद कर सकते हैं। आलू में ग्लाइकोकलॉइड नामक रासायनिक पदार्थ शामिल होते हैं, जो कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में मदद कर सकते हैं। हालांकि, शरीर में इस अणु की अधिकता के नकारात्मक परिणाम हो सकते हैं। ऐसे में आलू या आलू का रस थोड़ी मात्रा में ही पिएं।

6. माइग्रेन को कम करने के लिए | To ease migraines

अगर आप सिर दर्द से छुटकारा पाना चाहते हैं तो आलू के रस का सेवन करें। कई अध्ययनों में आलू को माइग्रेन में मदद करने के लिए दिखाया गया है। भोजन से पहले दिन में तीन बार एक चौथाई कप गर्म आलू का रस पीने से आपको माइग्रेन से राहत मिल सकती है। आलू के रस के अलावा आलू का एक टुकड़ा भी माइग्रेन के इलाज में फायदेमंद हो सकता है। ऐसा करने के लिए आलू के पतले स्लाइस काटकर सिर के चारों ओर पट्टी से बांध दें। माइग्रेन का दर्द कम हो सकता है।

7. कब्ज उपचार | Constipation Treatment

कच्चे आलू के रस (potato juice) पीने से आपको लंबे समय से परेशान कर रहे कब्ज में मदद मिल सकती है। एक शोध पत्र के अनुसार आलू को लगातार कब्ज के घरेलू इलाज के रूप में आहार में शामिल किया जा सकता है। कच्चे आलू से बने जूस और सूप के अलावा आलू को पकाकर या उबालकर भी खाया जा सकता है।

8. घाव का इलाज करने के लिए | To treat wounds

आलू में विटामिन सी होता है, जिसमें एक एंटीऑक्सीडेंट प्रभाव होता है जो त्वचा के ऊतकों को पनपने में मदद कर सकता है। आलू की यह विशेषता त्वचा के घावों को तेजी से भरने में मदद कर सकती है। यह सबसे अधिक संभावना है कि आलू त्वचा के घावों के तेजी से उपचार के साथ-साथ समग्र स्वास्थ्य में सुधार और सर्जरी के बाद त्वचा के ऊतकों के विकास में सहायता कर सकता है। हालांकि, डीप कट या सर्जरी के बाद आलू या आलू का जूस पीने से पहले डॉक्टर से मिलें।

9. एसिड को कम करने में | In reducing acid

अध्ययनों के अनुसार आलू पेट के एसिड को कम करने में मदद कर सकता है । ऐसे में यह निष्कर्ष निकालना गलत नहीं होगा कि आलू का रस पीने से नाराज़गी दूर करने में मदद मिल सकती है। ऐसा आप एक चम्मच आलू के रस में आधा कप गर्म या गुनगुने पानी में मिलाकर कर सकते हैं।

10. कैंसर के जोखिम को कम करें | Reduce Cancer Risk

आलू में ग्लाइकोकलॉइड नामक रासायनिक अणु होते हैं, जिनमें एंटीकार्सिनोजेनिक गुण होते हैं। यह प्रभाव लीवर और सर्वाइकल कैंसर को रोकने में फायदेमंद हो सकता है। ध्यान रहे कि यहां बताए गए आलू के रस के फायदे घरेलू इलाज के लिए हैं। यदि आपको कैंसर जैसी गंभीर बीमारी है, तो आपको हमेशा चिकित्सा उपचार को प्राथमिकता देनी चाहिए। हालांकि आलू और आलू का रस कैंसर के खतरे को कम करने में मदद करते हैं।

आलू के रस (potato juice) के नुकसान | side effects of potato juice

  • सड़े हुए आलू में पाए जाने वाले मायकोटॉक्सिन लीवर को नुकसान पहुंचा सकते हैं। इसलिए जूस बनाते समय हमेशा ताजे आलू का ही इस्तेमाल करें।
  • आलू में ग्लाइकोकलॉइड भी होता है, जो अधिक मात्रा में सेवन करने पर विषाक्तता पैदा कर सकता है
  • आलू के हरे धब्बों में विषाक्तता पाई जा सकती है, जो निगलने पर सिरदर्द, उल्टी, पेट दर्द, दस्त, बेहोशी या चक्कर आना जैसे लक्षण पैदा कर सकता है।
  • आलू के अधिक सेवन से मधुमेह का खतरा बढ़ सकता है। ऐसे में अधिक मात्रा में आलू का जूस पीने से बचना चाहिए।
  • आलू में पोटैशियम प्रचुर मात्रा में होता है। साथ ही, शरीर में बहुत अधिक पोटेशियम हाइपरक्लेमिया या रक्त में बहुत अधिक पोटेशियम का कारण बन सकता है। जिसके परिणामस्वरूप मतली, उल्टी, सीने में दर्द और सांस लेने में तकलीफ जैसे लक्षण हो सकते हैं।

इसे भी पढ़े

क्या हैं नमक के फायदे और नुकसान 

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments