Friday, July 1, 2022
Homeस्वास्थ्य और तंदुरुस्तीक्या हैं नमक के फायदे और नुकसान | What are the advantages...

क्या हैं नमक के फायदे और नुकसान | What are the advantages and disadvantages of salt

एक चुटकी नमक (salt) हमारे भोजन का स्वाद बदल देता है, या इसे दूसरे तरीके से कहें तो इसके बिना एक्सीलेंट भोजन नहीं बनाया जा सकता है। क्या आप जानते हैं कि नमक हमारे स्वाद से ज्यादा हमारे स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण है? हम इस post में नमक के फायदों के बारे में भी चर्चा करेंगे। हम नमक की अधिक मात्रा से होने वाले नुकसान के बारे में भी जानकारी प्रदान करेंगे।

इसे भी पढ़े

पनीर के फूल के फायदे और नुकसान

केसर के फायदे और नुकसान 

काली गाजर के फायदे और नुकसान

नमक कितने प्रकार का होता है? How many types of salt are there?

नमक (salt) के कई रूपों को दो श्रेणियों में क्लासिफाइड किया गया है। पहला नमक विभिन्न तरीकों से बनाया गया था। एक और नमक जो प्रकृति में पाया जाता है। इस तकनीक (Technique) द्वारा उत्पादित नमक की किस्में इस प्रकार हैं:-

सौर नमक, जिसे सौर वाष्पीकरण नमक के रूप में भी जाना जाता है, खुले तालाबों में समुद्री जल एकत्र करके निर्मित होता है। पानी वाष्पित हो जाता है और धूप में सूख जाता है, और शेष नमक के रूप में छोड़ दिया जाता है।

शुद्ध नमक, जिसे शोधक नमक के रूप में भी जाना जाता है, एक प्रकार का नमक है जिसका उपयोग पानी को शुद्ध करने के लिए किया जाता है। इस नमक को बनाने के लिए समुद्र के पानी को एक ट्यूब के अंदर सुखाया जाता है। पानी सूख जाने के बाद नमक बचा रहता है।

टेबल नमक processed, नमक का दूसरा नाम है। यह नमक खनिज मुक्त होता है और इसमें अतिरिक्त यौगिक होते हैं, जबकि प्राकृतिक नमक में इलेक्ट्रोलाइट्स जैसे खनिज होते हैं।

नमक के फायदे | benefits of salt

सोडियम क्लोराइड, जिसे कभी-कभी टेबल सॉल्ट के रूप में जाना जाता है, 40 प्रतिशत सोडियम और 60 प्रतिशत क्लोराइड का मिश्रण होता है। नमक (salt) खाने का स्वाद तो बढ़ाता ही है साथ ही उसे खराब होने से भी बचाता है। जब नमक का सेवन कम मात्रा में किया जाता है, तो यह कई तरह से स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद हो सकता है। चमत्कारी नमक उपचार के कुछ फायदे निम्नलिखित हैं।

1. नमक के निर्जलीकरण लाभ | Dehydration Benefits of Salt

दस्त और हैजा की स्थिति में शरीर निर्जलित (dehydrated) हो जाता है। निर्जलीकरण के कारण शरीर में पानी और खनिजों की मात्रा कम हो जाती है। यदि इस स्थिति को जल्दी से संबोधित नहीं किया जाता है, तो गुर्दे को नुकसान हो सकता है। इस उदाहरण में पानी के साथ साधारण नमक (salt) और चीनी को मिलाकर ओआरएस (ओरल रिहाइड्रेशन सॉल्यूशन) घोल तैयार किया जाता है। दस्त की समस्या को दूर कर यह उपाय शरीर को हाइड्रेट कर सकता है।

2. नमक से मांसपेशियों के दर्द में आराम | Salt relieves muscle pain (pain in legs)

पैर की मांसपेशियों में ऐंठन एक सामान्य स्थिति है। व्यायाम, उतार-चढ़ाव, गर्भावस्था, शरीर में इलेक्ट्रोलाइट असंतुलन और नमक की कमी सभी इस स्थिति का कारण बन सकते हैं । इसके अलावा, जैसे-जैसे खिलाड़ी खेलते हैं, उनके शरीर से अधिक पसीना आता है, जिसके परिणामस्वरूप शरीर में 4-6 बड़े चम्मच साधारण नमक की कमी हो जाती है। इस स्थिति में ताजे फल और सब्जियां, जिनमें प्राकृतिक रूप से नमक होता है, का सेवन करना चाहिए। इन खाद्य पदार्थों को खाने से ऐंठन को कुछ हद तक कम किया जा सकता है। यही कारण है कि खिलाड़ियों को पानी में एक चौथाई चम्मच नमक मिलाकर पीने की सलाह दी जाती है। इसके अतिरिक्त, टमाटर का रस और अन्य स्पोर्ट्स ड्रिंक्स को नमक के Option के रूप में use किया जा सकता है।

3. दांतों के लिए नमक के स्वास्थ्य लाभ | Health Benefits of Salt for Teeth

नमक (salt) के सेवन से दांत मजबूत होते हैं और मसूड़े स्वस्थ रहते हैं। इसमें एक fluoride component होता है जिसमें कैरोस्टैटिक क्रिया होती है, जिसका अर्थ है कि यह दांतों को कमजोर कर सकता है और उन्हें टूटने से रोक सकता है। सादे नमक के पानी से गरारे करने से भी मुंह के infection को साफ करने में मदद मिल सकती है। दरअसल, नमक के पानी से धोने से प्लाक पैदा करने वाले बैक्टीरिया मर जाते हैं। दाँतों की सड़न और मसूढ़ों की बीमारी इन सजीले टुकड़े के कारण होती है। नतीजतन, नमक की चाल में स्वस्थ दांतों की भी गिनती होती है।

4. नमक से गले के उपाय | Salt Throat Remedy

अगर आपके गले में खराश है या आपके गले में सूजन है, तो खाने से लेकर पानी पीने और बात करने तक सब कुछ मुश्किल हो सकता है। ऐसे में नमक से गरारे करना एक जादुई इलाज है। दिन में कई बार गुनगुने नमक के पानी (आधा चम्मच नमक और 1 कप पानी) से गरारे करें। माना जाता है कि साधारण नमक में गले की सूजन को कम करने और गले में खराश से कुछ राहत प्रदान करने की क्षमता सहित इनमें से कई विशेषताएं हैं।

5. सूजी हुई आंखें और नमक के उपाय | Swollen eyes and salt remedies


जैसे-जैसे लोग बड़े होते जाते हैं, आंखों के नीचे हल्की सूजन आना सामान्य है। धूम्रपान, शराब और नशीले पदार्थ सभी इस स्थिति में योगदान कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, एलर्जी और एक्जिमा, आंखों के नीचे सूजन पैदा कर सकते हैं। इस स्थिति में ठंडे पानी और नमक सेंक का उपयोग करके सूजन को नियंत्रित किया जा सकता है। इतना ही नहीं, गर्म पानी से नहाने से भी सूजन दूर करने में मदद मिल सकती है। नतीजतन, नमक को आंखों की सूजन के लिए फायदेमंद माना जा सकता है।

6. सिस्टिक फाइब्रोसिस के उपचार में प्रभावी | Effective in the Treatment of Cystic Fibrosis

फेफड़े और पाचन तंत्र दोनों सिस्टिक फाइब्रोसिस से प्रभावित होते हैं। इस स्थिति में नमक की कमी हो जाती है या कहें कि शरीर से सोडियम क्लोराइड खत्म हो जाता है। सोडियम क्लोराइड नमक और नमकीन में पाया जाता है। ऐसे में नमक के गुण इस बीमारी के खतरे को कम करने में मदद कर सकते हैं, लेकिन इसे पूरी तरह से ठीक करने के लिए अभी भी चिकित्सकीय सलाह और इलाज की जरूरत है नतीजतन, सिस्टिक फाइब्रोसिस नमक के सेवन के स्वास्थ्य लाभों में से एक है।

7. साइनस से राहत नमक के उपाय | Sinus Relief Salt Remedy

नमक खाने के कई फायदों में से एक यह है कि यह आपके साइनस को साफ करने में मदद करता है। साइनस सिर और चेहरे के भीतरी क्षेत्र में खोखले छेद (गुहा) होते हैं जिन्हें साइनस कहा जाता है। साइनस तब विकसित होता है जब ये रोम छिद्र किसी भी तरह से बंद हो जाते हैं। बुखार, कमजोरी, थकावट और खांसी सभी संभावित दुष्प्रभाव हैं।

ज्यादा नमक (salt) खाने के क्या नुकसान हैं? What are the disadvantages of eating too much salt?

1 .ऑस्टियोपोरोसिस – ऑस्टियोपोरोसिस (osteoporosis) हड्डियों के कमजोर होने के कारण होने वाली स्थिति है। खाने में ज्यादा नमक खाने से शरीर में कैल्शियम की कमी हो जाती है। इसकी कमी से हड्डियां कमजोर हो जाती हैं, जिससे ऑस्टियोपोरोसिस हो जाता है।

अत्यधिक नमक के सेवन से उच्च रक्तचाप (high blood pressure) भी हो सकता है, जिससे ऑस्टियोपोरोसिस (osteoporosis) हो सकता है। नतीजतन, खाद्य पदार्थों में नमक की मात्रा संतुलित होनी चाहिए।

2. किडनी की समस्या – ज्यादा नमक के सेवन से हाई ब्लड प्रेशर (high blood pressure) होता है, जिससे कैल्शियम के अणु हड्डियों से निकलकर किडनी में जमा हो जाते हैं। फिर, समय के साथ, ये अणु गुर्दे और मूत्रमार्ग की पथरी का स्रोत बन जाते हैं।

यही कारण है कि उच्च रक्तचाप वाले रोगियों में क्रोनिक रीनल डिजीज विकसित होने की संभावना अधिक होती है। यह समस्या शरीर के अतिरिक्त नमक को खत्म करने में असमर्थता के कारण उत्पन्न होती है। हर दिन 4,000 मिलीग्राम से कम सोडियम का सेवन करने से सीकेडी और अन्य गुर्दे की बीमारियों को रोका जा सकता है।

3. हार्ट की समस्याएं – बहुत अधिक नमक खाने से उच्च रक्तचाप (high blood pressure) हो सकता है, जिससे हृदय रोग हो सकता है और धमनियां बंद हो सकती हैं। अन्य शोधों से पता चला है कि सोडियम का सेवन कम करने से रक्तचाप (high blood pressure) को कम करने में मदद मिल सकती है।

एक जापानी अध्ययन में उच्च रक्तचाप और स्ट्रोक से मृत्यु को रोकने के लिए कम नमक का सेवन भी देखा गया। तो जाहिर सी बात है कि ज्यादा नमक खाना आपके दिल के लिए हानिकारक है।

4. पेट का कैंसर – बहुत ज्यादा नमक पेट की त्वचा को नुकसान पहुंचाता है, जिससे अल्सर हो जाता है जिससे कोलन कैंसर हो सकता है। पेट में अतिरिक्त सोडियम पेट की म्यूकोसल कोशिकाओं में सूजन पैदा कर सकता है। यह आपके पेट के कैंसर होने की संभावना को भी बढ़ा सकता है। ऐसी सेटिंग में नमक के गुण खतरनाक हो सकते हैं।

इसके अलावा, नमक हेलिकोबैक्टर पाइलोरी से infection का कारण बन सकता है, एक जीवाणु जो पेट की त्वचा को नष्ट कर देता है। इससे आपको पेट का कैंसर होने की संभावना भी बढ़ जाती है।

5. ब्लड प्रेशर – वैसे तो नमक के गुण ब्लड प्रेशर को कम करने का काम करते हैं, लेकिन इससे हाई ब्लड प्रेशर का खतरा रहता है। वहीं नमक में सोडियम की अधिकता हाई ब्लड प्रेशर की स्थिति को बढ़ा सकती है। यह निष्कर्ष निकालना उचित है कि उच्च रक्तचाप वाले लोगों के लिए अत्यधिक नमक का सेवन खतरनाक है।

6. वजन – नमक की कितनी भी तकनीक (Technique) क्यों न हो, वजन बढ़ना नकारात्मक प्रभावों में से एक है। एक अध्ययन के अनुसार, नमक में मौजूद सोडियम व्यक्ति की ऊर्जा को तेजी से कम करता है, जिससे वह अधिक भोजन करता है। नतीजतन, व्यक्ति का वजन बढ़ना शुरू हो जाता है और वह मोटापे का शिकार हो जाता है।

इसे भी पढ़े

केले के फूल के फायदे और नुकसान

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments