Friday, December 2, 2022
Homeस्वास्थ्य और तंदुरुस्तीस्लिप डिस्क के लिए योग | yoga for slip disc

स्लिप डिस्क के लिए योग | yoga for slip disc

पूरे दिन बैठने, लैपटॉप पर काम करने या बड़ी वस्तुओं को हिलाने से कमर की हड्डी सीधे प्रभावित होती है। इसे मेडिकल भाषा में स्लिप डिस्क (slip disc) या हर्नियेटेड डिस्क के रूप में जाना जाता है। हालांकि इस बीमारी से बचने के लिए शारीरिक गतिविधि की आवश्यकता होती है, लेकिन योग को सबसे प्रभावी माना जाता है। योग के प्रयोग से न केवल स्लिप डिस्क से बचा जा सकता है, बल्कि इस बीमारी से पीड़ित मरीज भी इलाज ढूंढ सकते हैं।

इंडिया में स्लिप डिस्क (slip disc) की गंभीर समस्या है। केवल आप ही नहीं, बल्कि हमारी 80% से अधिक युवा आबादी विभिन्न कारणों से स्लिप डिस्क से पीड़ित है। मुख्य अंतर यह है कि लोग अब न केवल स्थिति से अवगत हैं, बल्कि सक्रिय रूप से एक डॉक्टर से चिकित्सा की मांग कर रहे हैं। इस post में, हम स्लिप डिस्क के लिए योग के बारे में विस्तार से जानेंगे।

इसे भी पढ़े

स्लिप डिस्क के लक्षणों और इलाज 

मानसिक स्वास्थ्य क्या हैं?

स्लिप डिस्क के लिए योग | yoga for slip disc

स्लिप डिस्क (slip disc) के लिए कई प्रकार के योगासन हैं, जिनमें से कुछ के बारे में हम नीचे चर्चा करेंगे:-

1. उष्ट्रासन | Ustrasana

उष्ट्रासन स्लिपिंग डिस्क से राहत पाने का एक शानदार तरीका है। यह वास्तव में एक पिछड़ा झुकने वाला योग मुद्रा है जो पीठ के निचले हिस्से की समस्याओं में मदद कर सकता है। स्लिप डिस्क होने पर पीठ के निचले हिस्से में अधिक दर्द होता है| यह संभव है कि उष्ट्रासन इस मामले में स्लिप डिस्क के साथ मदद कर सकता है।

योग की प्रक्रिया :-

  • सबसे पहले फर्श पर एक योगा मैट बिछाकर वज्रासन में बैठ जाएं।
  • अब अपने घुटनों के बल सीधे सीधे हो जाएं।
  • गहरी सांस लेते हुए धीरे-धीरे पीछे की ओर झुकें, दाएं पैर को दाएं हाथ से और बाएं पैर की एड़ी को बाएं हाथ से पकड़ें।
  • इस अवस्था में मुख आकाश की ओर रहेगा।
  • इस पोजीशन को हासिल करने के बाद शरीर का सारा भार पैरों और हाथों पर होना चाहिए।
  • कुछ देर इसी स्थिति में रहें, सामान्य रूप से सांस लेते और छोड़ते रहें।
  • कुछ देर बाद धीरे-धीरे शुरुआती स्थिति में लौट आएं।
2. भुजंगासन | Bhujangasana

स्लिप डिस्क (slip disc) के लिए भुजंगासन के फायदे स्पष्ट हैं। यह योग रीढ़ की हड्डी को मजबूत करने में मदद कर सकता है। पीठ के निचले हिस्से और ऊपरी हिस्से को स्ट्रेच करने से भी पीठ की परेशानी को दूर करने में मदद मिल सकती है। यह स्लिप डिस्क द्वारा उत्पन्न दर्द को कम करने में मदद कर सकता है।

योग की प्रक्रिया :-

  • भुजंगासन को करने के लिए एक योगा मैट से साफ सतह पर पेट के बल लेट जाएं।
  • अपने सिर को जमीन पर मजबूती से टिकाए रखें। साथ ही दोनों पैरों के बीच एक निश्चित दूरी बनाए रखें।
  • फिर, अपने हाथों को अपने कंधों के समानांतर रखते हुए, अपने हाथ की हथेली को जमीन पर रखें। अब गहरी सांस लेते हुए दोनों हाथों को जमीन पर रखें और शरीर के ऊपरी हिस्से को धीरे-धीरे ऊपर उठाएं जब तक कि यह नाभि तक न पहुंच जाए।
  • शरीर को ऊपर उठाने के लिए सिर, छाती और अंत में नाभि उठेगी।
  • इस पोजीशन में आने के बाद आसमान की तरफ देखें और इसे कुछ देर के लिए होल्ड करें।
  • इस बिंदु पर दोनों हाथों में ऊपरी शरीर का वजन समान होगा। एक स्थिर श्वास पैटर्न भी बनाए रखें।
  • फिर धीरे-धीरे सांस छोड़ते हुए प्रारंभिक मुद्रा में लौट आएं।
  • इस योग के पहले तीन से पांच चक्र किए जा सकते हैं।
3. शलभासन | Shalabhasana

शलभासन डिस्क स्लिपेज में भी मदद कर सकता है। एक वैज्ञानिक अध्ययन के अनुसार, पीठ में दर्द स्लाइडिंग डिस्क के कारण होता है। शलभासन एक ही समय में पीठ दर्द में मदद कर सकता है। यह स्लिप डिस्क (slip disc) के लक्षणों को कम करने में मदद कर सकता है।

योग की प्रक्रिया :-

  • योगा मैट पर पेट के बल लेट जाएं।
  • दोनों हाथ कूल्हों के पीछे, हथेलियाँ ऊपर की ओर होनी चाहिए।
  • अब टखनों को आपस में जोड़ लें।
  • सांस लेते हुए दाहिने पैर को धीरे-धीरे ऊपर की ओर उठाएं। एकपद शलभासन इस पद को दिया गया नाम था।
  • सामान्य श्वास पैटर्न को बनाए रखते हुए कुछ मिनटों के लिए इस स्थिति में रहने का प्रयास करें।
  • उसके बाद, बाएं पैर के साथ गति को दोहराने से पहले दाहिने पैर को धीरे-धीरे नीचे करें।
  • बाएं पैर को नीचे करने के कुछ सेकंड के बाद, दोनों पैरों को एक साथ ऊपर उठाएं और जितनी देर हो सके इस स्थिति में रहें।
  • इस प्रकार शलभासन का एक चक्र पूरा होगा।
  • प्रत्येक दोहराव के बीच थोड़ा आराम करके, आप इसे लगातार चार बार कर सकते हैं।
4. सेतु बंध सर्वांगासन | Setu Bandha Sarvangasana

शोध के अनुसार, इस योग के अभ्यास से पीठ के निचले हिस्से की परेशानी को कम किया जा सकता है। दरअसल, क्योंकि स्लिप डिस्क (slip disc) से पीठ दर्द होता है, इसलिए यह योग पीठ को फैलाता है, जिससे बेचैनी दूर करने में मदद मिल सकती है। इस आधार पर, सेतु बंध सर्वांगासन को स्लाइडिंग डिस्क के लिए योगासन के रूप में classified किया जा सकता है।

योग की प्रक्रिया :-

  • सबसे पहले अपनी पीठ पर चटाई या योगा मैट बिछाकर लेट जाएं।
  • फिर घुटनों के बल दोनों पैरों को मोड़ें और एड़ियों को कूल्हों पर रखें।
  • दोनों पैरों के बीच एक छोटा सा गैप बनाए रखें।
  • इसके बाद दोनों हाथों से दोनों पैरों की एड़ियों को पकड़ लें।
  • फिर, गहरी सांस लेते हुए अपनी कमर को ऊपर उठाएं।
  • ठोड़ी छाती पर टिकी रहेगी और सिर, गर्दन और कंधे इस स्थिति में जमीन पर रहेंगे।
  • अब ठीक से सांस लेते और छोड़ते हुए कुछ मिनट इसी स्थिति में रहने की कोशिश करें।
  • इसके बाद धीरे-धीरे सांस छोड़ते हुए प्रारंभिक स्थिति में आ जाएं।
  • इस योग को आप जितनी बार चाहें उतनी बार दोहरा सकते हैं।
5. मकरासन | Makarasana

स्लिप डिस्क (slip disc) के लिए योगासनों की सूची में मकरासन को शामिल किया जा सकता है। एक वैज्ञानिक अध्ययन के अनुसार, इस योगाभ्यास का अभ्यास करने से स्लिप डिस्क, रीढ़ की हड्डी और रीढ़ की हड्डी में मदद मिल सकती है। यह स्लिपिंग डिस्क की स्थिति को कम करने में मदद कर सकता है।

योग की प्रक्रिया :-

  • मकरासन करने के लिए पेट के बल लेट जाएं।
  • दोनों हाथों को अपने चेहरे के सामने मोड़ें और हथेली को अपनी भौंह के सामने रखें।
  • फिर अपनी भौंहों को अपने हाथों पर रखें।
  • इस दौरान दोनों पैरों के बीच करीब एक फुट का फासला होना चाहिए।
  • इसके बाद अपने शरीर को पूरी तरह से रिलैक्स होने दें।
  • लगभग 15 मिनट तक इसी स्थिति में रहते हुए गहरी और लंबी सांसें लें।

इसे भी पढ़े

प्लेटलेट्स (platelets) बढ़ाने का घरेलु उपाय 

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments